Page 1 of 3 123 LastLast
Results 1 to 15 of 31

Thread: Navratri Vishesh: Happy Navratri

  1. #1
    SB Guru Lieutenant-Colonel Gyan100's Avatar
    Join Date
    Oct 2008
    Location
    Hindustan ka Dil
    Posts
    7,811
    Rep Power
    99

    Default Navratri Vishesh: Happy Navratri

    माँ दुर्गा के नौ नैवेद्य

    नौ दिन का विशेष प्रसाद



    ND
    * प्रथम नवरात्रि के दिन माँ के चरणों में गाय का शुद्ध घी अर्पित करने से आरोग्य का आशीर्वाद मिलता है। तथा शरीर निरोगी रहता है।

    * दूसरे नवरात्रि के दिन माँ को शक्कर का भोग लगाएँ व घर में सभी सदस्यों को दें। इससे आयु वृद्धि होती है।

    * तृतीय नवरात्रि के दिन दूध या दूध से बनी मिठाई खीर का भोग माँ को लगाकर ब्राह्मण को दान करें। इससे दुखों की मुक्ति होकर परम आनंद की प्राप्ति होती है।

    * माँ दुर्गा को चौथी नवरात्रि के दिन मालपुए का भोग लगाएँ। और मंदिर के ब्राह्मण को दान दें। जिससे बुद्धि का विकास होने के साथ-साथ निर्णय शक्ति बढ़ती है।

    * नवरात्रि के पाँचवें दिन माँ को केले का नैवैद्य चढ़ाने से शरीर स्वस्थ रहता है।

    * छठवीं नवरात्रि के दिन माँ को शहद का भोग लगाएँ। जिससे आपके आकर्षण शक्त्ति में वृद्धि होगी।

    * सातवें नवरात्रि पर माँ को गुड़ का नैवेद्य चढ़ाने व उसे ब्राह्मण को दान करने से शोक से मुक्ति मिलती है एवं आकस्मिक आने वाले संकटों से रक्षा भी होती है।

    * नवरात्रि के आठवें दिन माता रानी को नारियल का भोग लगाएँ व नारियल का दान कर दें। इससे संतान संबंधी परेशानियों से छुटकारा मिलता है।

    * नवरात्रि की नवमी के दिन तिल का भोग लगाकर ब्राह्मण को दान दें। इससे मृत्यु भय से राहत मिलेगी। साथ ही अनहोनी होने की* घटनाओं से बचाव भी होगा।
    “Live out of your Imagination, not your History"

  2. #2
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,082
    Rep Power
    0

    Default

    Maataa Kee Jai......great. thanks for sharing.

  3. #3
    SB Guru Lieutenant-Colonel Gyan100's Avatar
    Join Date
    Oct 2008
    Location
    Hindustan ka Dil
    Posts
    7,811
    Rep Power
    99

    Default

    राशि के अनुरूप मंत्र जाप






    ND

    व्यक्ति यदि अपनी राशि के अनुकूल मंत्र का जाप करे तो लाभकारी होता है। इन मंत्रों का कोई विशेष विधान नहीं है लेकिन सामान्य सहज भाव से स्नान के पश्चात अपने पूजा घर या घर में शुद्ध स्थान का चयन कर प्रतिदिन धूप-दीप के पश्चात ऊन या कुशासन पर बैठें एवं अपनी शक्ति अनुरूप एक, तीन या पाँच माला का जाप करें। विशेषकर उन लोगों के लिए जो माँ की आराधना में अधिक समय नहीं दे सकते और जो लोग कठिन मंत्रों का जाप नहीं कर सकते।

    निश्चित ही इसका प्रभाव होगा, जिससे धन, यश और समृद्धि की वृद्धि होगी।

    राशि - लक्ष्मी मंत्र

    मेष - ॐ ऐं क्लीं सौं:

    वृषभ - ॐ ऐं क्लीं श्रीं

    मिथुन - ॐ क्लीं ऐं सौं:

    कर्क - ॐ ऐं क्लीं श्रीं

    सिंह - ॐ ह्रीं श्रीं सौं:

    कन्या - ॐ श्रीं ऐं सौं:

    तुला - ॐ ह्रीं क्लीं श्रीं

    वृश्चिक - ॐ ऐं क्लीं सौं:

    धनु - ॐ ह्रीं क्लीं सौं:

    मकर - ॐ ऐं क्लीं ह्रीं श्रीं सौं:

    कुंभ - ॐ ह्रीं ऐं क्लीं श्रीं

    मीन - ॐ ह्रीं क्लीं सौं:
    “Live out of your Imagination, not your History"

  4. #4
    SB Guru Lieutenant-Colonel Gyan100's Avatar
    Join Date
    Oct 2008
    Location
    Hindustan ka Dil
    Posts
    7,811
    Rep Power
    99

    Default

    नवदुर्गा के आसान सिद्ध मंत्र




    ND
    दुर्गा सप्तशती में कुछ ऐसे सिद्ध मंत्र हैं, जिनके द्वारा हम अपनी मनोकामना की पूर्ति कर सकते हैं।

    कैसे करें जाप :- नवरात्रि के प्रतिपदा के दिन घटस्थापना के बाद संकल्प लेकर प्रातः स्नान करके दुर्गा की मूर्ति या चित्र की पंचोपचार या दक्षोपचार या षोड्षोपचार से गंध, पुष्प, धूप दीपक नैवेद्य निवेदित कर पूजा करें। मुख पूर्व या उत्तर दिशा की ओर रखें।

    शुद्ध-पवित्र आसन ग्रहण कर रुद्राक्ष, तुलसी या चंदन की माला से मंत्र का जाप एक माला से पाँच माला तक पूर्ण कर अपना मनोरथ कहें। पूरी नवरात्रि जाप करने से मनोवांच्छित कामना अवश्य पूरी होती है।

    उपरोक्त सारे मंत्र विधिनुसार करने पर मनुष्*य अपने पापों और कष्*टों को दूर करके माता के आशीर्वाद का पात्र बन जाता है। नवरात्रि में संयमपूर्वक की गई प्रार्थना और भक्ति माता स्वीकार करती है और साथ ही अपने भक्तों के कष्*टों का निवारण करते हुए उन्हें मोक्ष प्राप्ति का मार्ग दिखाती है।

    * सर्वकल्याण के लिए-
    सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।
    शरण्येत्र्यंबके गौरी नारायणि नमोस्तुऽते॥

    * आरोग्य एवं सौभाग्य प्राप्ति के लिए-
    देहि सौभाग्यं आरोग्यं देहि में परमं सुखम्*।
    रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषोजहि॥

    * बाधा मुक्ति एवं धन-पुत्रादि प्राप्ति के लिए-
    सर्वाबाधा विनिर्मुक्तो धन धान्य सुतान्वितः।
    मनुष्यों मत्प्रसादेन भवष्यति न संशय॥

    * सुलक्षणा पत्नी प्राप्ति के ***लिए-
    पत्नीं मनोरमां देहि मनोवृत्तानुसारिणीम्।
    तारिणीं दुर्ग संसारसागस्य कुलोद्*भवाम्।।

    * दरिद्रता नाश के लिए-
    दुर्गेस्मृता हरसि भतिमशेशजन्तो: स्वस्थैं: स्मृता मतिमतीव शुभां ददासि।
    दरिद्रयदुखभयहारिणी कात्वदन्या सर्वोपकारकरणाय सदार्द्रचित्ता।।

    * शत्रु नाश के लिए-
    ॐ ह्रीं बगलामुखी सर्वदुष्*टानां वाचं मुखं पदं स्तंभय जिह्वाम् कीलय बुद्धिम्विनाशाय ह्रीं ॐ स्वाहा।।

    * सर्वविघ्ननाशक मंत्र-
    सर्वबाधा प्रशमनं त्रेलोक्यस्यखिलेशवरी।
    एवमेय त्वया कार्य मस्माद्वैरि विनाशनम्*॥

    * ऐश्वर्य प्राप्ति एवं भय मुक्ति मंत्र-
    ऐश्वर्य यत्प्रसादेन सौभाग्य-आरोग्य सम्पदः।
    शत्रु हानि परो मोक्षः स्तुयते सान किं जनै॥

    * विपत्तिनाशक मंत्र-
    शरणागतर्दिनार्त परित्राण पारायणे।
    सर्वस्यार्ति हरे देवि नारायणि नमोऽतुते॥

    * स्वप्न में कार्य-सिद्धि के लिए-
    दुर्गे देवी नमस्तुभ्यं सर्वकामार्थसाधिके।
    मम सिद्धिमसिद्धिं वा स्वप्ने सर्वं प्रदर्शय।।
    “Live out of your Imagination, not your History"

  5. #5
    Red Baron Colonel mavvrick_111's Avatar
    Join Date
    Mar 2009
    Location
    La Noche
    Posts
    15,688
    Rep Power
    100

    Default

    superb

    thx for sharing

    Jai Mataji
    one of the greatest freedom is truly not caring what anyone else thinks of you.

  6. #6
    SB Guru Lieutenant-Colonel Gyan100's Avatar
    Join Date
    Oct 2008
    Location
    Hindustan ka Dil
    Posts
    7,811
    Rep Power
    99

    Default

    माँ भगवती ऐसे होगी प्रसन्न




    ND
    नवरात्रि में माँ दुर्गा की पूजा विशेष फलदायी है। नवरात्रि ही एक ऐसा पर्व है जिसमें महाकाली, महालक्ष्मी और माँ सरस्वती की साधना करके जीवन को सार्थक किया जा सकता है। ऐसी माँ दुर्गा की कृपा प्राप्ति के लिए कुछ सरल उपाय नीचे दिए जा रहे हैं।

    - माँ दुर्गा को तुलसी दल और दूर्वा चढ़ाना निषिद्ध है।

    - अपने घर के पूजा स्थान में भगवती दुर्गा, भगवती लक्ष्मी और माँ सरस्वती के चित्रों की स्थापना करके उनको फूलों से सजाकर पूजन करें।

    - नौ दिनों तक माता का व्रत रखें। अगर शक्ति न हो तो पहले, चौथे और आठवें दिन का उपवास अवश्य करें। माँ भगवती की कृपा जरूर प्राप्त होगी।

    - नौ दिनों तक घर में माँ दुर्गा के नाम की ज्योत अवश्*य जलाएँ।

    - अधिक से अधिक नवार्ण मंत्र 'ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै' का जाप अवश्*य करें।

    - इन दिनों में दुर्गा सप्तशती का पाठ अवश्*य करें।

    - पूजन में हमेशा लाल रंग के आसन का उपयोग करना उत्तम होता है। आसन लाल रंग का और ऊनी होना चाहिए।

    - लाल रंग का आसन न होने पर कंबल की आसन इतनी मात्रा में बिछाकर उस पर लाल रंग का दूसरा कपड़ा डालकर उस पर बैठकर पूजन करना चाहिए।

    - पूजा पूरी होने के पश्*चात आसन को प्रणाम करके लपेटकर सुरक्षित जगह पर रख दीजिए।




    ND
    - पूजा के समय लाल वस्त्र पहनना शुभ होता है। लाल रंग का तिलक भी जरूर लगाएँ। लाल कपड़ों से आपको एक विशेष ऊर्जा की प्राप्ति होती है।

    - माँ को प्रात: काल के समय शहद मिला दूध अर्पित करें। पूजन के पास इसे ग्रहण करने से आत्मा व शरीर को बल प्राप्ति होती है। यह एक उत्तम उपाय है।

    - आखिरी दिन घर में रखीं पुस्तकें, वाद्य यंत्रों, कलम आदि की पूजा अवश्य करें।

    - अष्*टमी व नवमी के दिन कन्या पूजन करें।

    - उपरोक्त नियमों का पालन कर नौ दुर्गा को प्रसन्न करें।
    “Live out of your Imagination, not your History"

  7. #7
    SB Guru Lieutenant-Colonel Gyan100's Avatar
    Join Date
    Oct 2008
    Location
    Hindustan ka Dil
    Posts
    7,811
    Rep Power
    99

    Default

    शक्ति साधना का पर्व है नवरात्रि
    भक्ति से प्रसन्न करें देवी-देवताओं को





    ND

    शक्ति पूजा का नौ दिवसीय पर्व 8 अक्टूबर से शुरू होगा। इस दिन शक्तिपीठों और मंदिरों में सुबह 11.30 से दोपहर 12.30 बजे के बीच घटस्थापना की जाएगी। नवरात्रि का पर्व 8 अक्टूबर प्रतिपदा से प्रारंभ होकर 16 अक्टूबर नवमी तक चलेगा। अश्विन मास में नवरात्रि का आना इसकी महत्ता को कई गुना बढ़ा देता है।

    नवरात्रि शक्ति साधना का पर्व है। 8 अक्टूबर अश्विनी शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा में ज्योति कलश की स्थापना सुबह 11.30 बजे से लेकर दोपहर 12.30 बजे के बीच शुभ मानी जाएगी। नवरात्रि में कुँवारी कन्या का पूजन करने और भोजन कराने का बड़ा महत्व है।

    विधि-विधान से कन्या पूजन करने और भोजन कराने वालों को अत्यंत पुण्य मिलता है।

    सरकार ने धार्मिक स्थलों पर पशुओं के बलि प्रथा को समाप्त करने के निर्देश जारी किए हैं। कोई भी देवी-देवता खून के प्यासे नहीं होते और नहीं ही वे पशुओं की बलि देने से प्रसन्न होते हैं। बलि देने से भक्तों की मनोकामना भी पूरी नहीं होती। यह आज के समय में केवल अंधविश्वास बनकर रह गया है।

    यह विडंबना है कि आजकल शिक्षित लोग भी बलि देने में आगे हैं। कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें ऐसे अवसरों की तलाश रहती है। प्रदेश सरकार ने सभी जिले के कलेक्टरों को देवी मंदिरों में बलि नहीं देने का आदेश दिया है। पिछले 10 वर्षों से हो रही पशु बलि का गायत्री परिवार के सदस्य शुरू से विरोध करते आ रहे हैं।

    पिछले दिनों गायत्री परिवार के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से मिलकर बलि प्रथा को समाप्त करने की माँग की थी। जानकारों के अनुसार बलि देकर देवी-देवताओं की आराधना करना गलत है।

    अगर सच्ची श्रद्धा से प्रार्थना की जाए, तो देवी-देवता प्रसन्न होते हैं। देवी-देतवाओं की पूजा के लिए नारियल, अगरबत्ती फूल और श्रद्घा ही पर्याप्त है। बलि प्रथा को समाप्त करने प्रदेश सरकार ने आदेश तो जारी कर दिया है, लेकिन इसके लिए सभी लोगों को जागरूक रहना होगा।
    “Live out of your Imagination, not your History"

  8. #8
    Banned Major
    Join Date
    Sep 2006
    Location
    Kashmir-370
    Posts
    4,599
    Rep Power
    0

    Default

    HAPPY Navratri

    Jai hi Jai ho Jai ho

  9. #9
    ******** Colonel mann4u's Avatar
    Join Date
    Aug 2009
    Location
    amchi Mumbai
    Posts
    14,583
    Rep Power
    96

    Default

    happy navratri to alllllllll
    jai mata di
    ate jaate jo milta hai tumsa lagta hai
    mai to pagal ho jawunga aisa lagata hai

  10. #10
    ___ Sa'aB™ ___ Field Marshal DesiCasanova's Avatar
    Join Date
    Aug 2009
    Posts
    368,429
    Rep Power
    100

    Default

    Jai Mata Di....
    Wishing all a Happy Navratri
    ╰დ╮LasTHINDU╭დ╯

  11. #11
    Banned Colonel
    Join Date
    Apr 2008
    Posts
    13,842
    Rep Power
    0

    Default

    Its the time to do the garba and the dandia

    no sleep for next 9 days

  12. #12
    SB Spearhead Field Marshal Rocky-10's Avatar
    Join Date
    Oct 2006
    Location
    ¤(¯`·._.» In Your Heart
    Posts
    77,016
    Rep Power
    100

    Default

    Jai Mata Di....
    Wishing all a Happy Navratri



    Lucky is the man who is the first love of a woman,
    but luckier is the woman who is the last love of a man.

  13. #13
    teekhi jammu chilli Major General arumita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    Location
    my home
    Posts
    31,575
    Rep Power
    100

    Default

    My love, the spark that ignited the day we met
    remains an eternal flame.











  14. #14
    *!*..BAAZIGAR..*!* Colonel javsayy's Avatar
    Join Date
    Feb 2009
    Location
    Below the FEET of my MOTHER
    Posts
    16,903
    Rep Power
    100

    Default

    Wishing all a Happy Navratri
    I Believe In Love At First Sight!! Because... I Have Loved My Mother Ever Since I Opened My eyes

  15. #15
    ♡♥£☋¢Ǩ¥ ★☆★ ☾ћi¢Ҝ¥♥♡ Field Marshal sens's Avatar
    Join Date
    Jul 2009
    Location
    ★♥»★«♥★
    Posts
    103,294
    Rep Power
    100

    Default

    happy festival to all my sbf friends....

    hav ablast!!!!!!

    Live amongst people in such a manner that if you die they weep over you and if you are alive they crave for your company.

Similar Threads

  1. Replies: 5
    Last Post: 11-10-2009, 06:15 PM
  2. Navaratri Festival
    By rishii in forum General Discussion
    Replies: 29
    Last Post: 18-09-2009, 06:56 PM
  3. Replies: 55
    Last Post: 14-07-2009, 10:51 AM
  4. Navaratri: The 9 Divine Nights
    By magix_boy11 in forum General Discussion
    Replies: 12
    Last Post: 02-06-2009, 07:54 PM
  5. birthday wish
    By KLYUG in forum General Discussion
    Replies: 2
    Last Post: 03-08-2006, 02:07 PM

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •