Page 1 of 4 123 ... LastLast
Results 1 to 15 of 59

Thread: Jai Jai Jai Jai Bajarang Bali !!!!!!!!

  1. #1
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,082
    Rep Power
    0

    Thumbs up Jai Jai Jai Jai Bajarang Bali !!!!!!!!


    Jai Jai Jai Hanumant gosai.........

  2. #2
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,082
    Rep Power
    0

  3. #3
    ___ Sa'aB™ ___ Field Marshal DesiCasanova's Avatar
    Join Date
    Aug 2009
    Posts
    368,429
    Rep Power
    100

    Default

    jai Bajrang Bali!~
    ╰დ╮LasTHINDU╭დ╯

  4. #4
    █●тнє ρяιη¢є σƒ вєηgαℓ●█ Lieutenant-Colonel Sujoy's Avatar
    Join Date
    May 2006
    Location
    вhαrαt
    Posts
    11,813
    Rep Power
    100

    Default

    Jai Bajarang Bali..
    Jai Shree Ram..

  5. #5
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,082
    Rep Power
    0

    Default

    Quote Originally Posted by Sujoy View Post
    Jai Bajarang Bali..
    Jai Shree Ram..

    Ram Lakshman Jaanaki Jai bolo Hanuman ki !!!!


  6. #6
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,082
    Rep Power
    0

    Default



    Bhakto K hey Rakhware,
    Bajrangi Veer hamare..!!
    Veero ke Veer Jai Mahaveer.
    Last edited by rajpaldular; 08-09-2012 at 12:01 PM.

  7. #7
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,082
    Rep Power
    0

    Default


  8. #8
    ♥ek haseena thi♥ Field Marshal basanti<<<'s Avatar
    Join Date
    Aug 2009
    Location
    khayalon main~:o
    Posts
    123,016
    Rep Power
    100

    Default

    +++++++++++++++++++
    Thank you bala

  9. #9
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,082
    Rep Power
    0

  10. #10
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,082
    Rep Power
    0

    Default


  11. #11
    mallik!! Major avdhut123's Avatar
    Join Date
    Oct 2010
    Location
    Maharashtra
    Posts
    4,650
    Rep Power
    79

    Default

    Jai Bajarang Bali..........
    “India won’t change because we are not changing .”


  12. #12
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,082
    Rep Power
    0

    Default

    Quote Originally Posted by avdhut123 View Post
    Jai Bajarang Bali..........

    thanks for liking.....................................

  13. #13
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,082
    Rep Power
    0

    Default

    अतुलित बलधामं हैमशैलाभ देहं |
    दनुजवन कृशानुं ग्यानिनामाग्रगण्यम |

    सकलगुणनिधानं वानराणामधीषम |
    रघुपतिप्रिय भक्तं वातजातं नमामि || [ श्लोक - ३, सुन्दरकाण्ड ]


    भावार्थ ----- अतुल बल के धाम, सोने के पर्वत (सुमेरु) के समान, कान्तियुक्त शरीरवाले, दैत्य रुपी वन (को ध्वंस करने) -
    के लिए अग्नि रूप, ज्ञानियों में अग्रगण्य, सम्पूर्ण गुणों के निधान, वानरों के स्वामी, श्री रघुनाथ जी के प्रिय भक्त 'पवन पुत्र श्री हनुमान जी" को मैं दंडवत प्रणाम करता हूँ.

  14. #14
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,082
    Rep Power
    0

    Default


  15. #15
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,082
    Rep Power
    0

    Default

    चौपाई :
    * सुनि सीता दुख प्रभु सुख अयना। भरि आए जल राजिव नयना॥
    बचन कायँ मन मम गति जाही। सपनेहुँ बूझिअ बिपति कि ताही॥1॥
    भावार्थ:-सीताजी का दुःख सुनकर सुख के धाम प्रभु के कमल नेत्रों में जल भर आया (और वे बोले-) मन, वचन और शरीर से जिसे मेरी ही गति (मेरा ही आश्रय) है, उसे क्या स्वप्न में भी विपत्ति हो सकती है?॥1॥
    * कह हनुमंत बिपति प्रभु सोई। जब तव सुमिरन भजन न होई॥
    ... केतिक बात प्रभु जातुधान की। रिपुहि जीति आनिबी जानकी॥2॥
    भावार्थ:-हनुमान्*जी ने कहा- हे प्रभु! विपत्ति तो वही (तभी) है जब आपका भजन-स्मरण न हो। हे प्रभो! राक्षसों की बात ही कितनी है? आप शत्रु को जीतकर जानकीजी को ले आवेंगे॥2॥
    * सुनु कपि तोहि समान उपकारी। नहिं कोउ सुर नर मुनि तनुधारी॥
    प्रति उपकार करौं का तोरा। सनमुख होइ न सकत मन मोरा॥3॥
    भावार्थ:-(भगवान्* कहने लगे-) हे हनुमान्*! सुन, तेरे समान मेरा उपकारी देवता, मनुष्य अथवा मुनि कोई भी शरीरधारी नहीं है। मैं तेरा प्रत्युपकार (बदले में उपकार) तो क्या करूँ, मेरा मन भी तेरे सामने नहीं हो सकता॥3॥
    * सुनु सुत तोहि उरिन मैं नाहीं। देखेउँ करि बिचार मन माहीं॥
    पुनि पुनि कपिहि चितव सुरत्राता। लोचन नीर पुलक अति गाता॥4॥
    भावार्थ:-हे पुत्र! सुन, मैंने मन में (खूब) विचार करके देख लिया कि मैं तुझसे उऋण नहीं हो सकता। देवताओं के रक्षक प्रभु बार-बार हनुमान्*जी को देख रहे हैं। नेत्रों में प्रेमाश्रुओं का जल भरा है और शरीर अत्यंत पुलकित है॥4॥
    दोहा :
    * सुनि प्रभु बचन बिलोकि मुख गात हरषि हनुमंत।
    चरन परेउ प्रेमाकुल त्राहि त्राहि भगवंत॥32॥
    भावार्थ:-प्रभु के वचन सुनकर और उनके (प्रसन्न) मुख तथा (पुलकित) अंगों को देखकर हनुमान्*जी हर्षित हो गए और प्रेम में विकल होकर 'हे भगवन्*! मेरी रक्षा करो, रक्षा करो' कहते हुए श्री रामजी के चरणों में गिर पड़े॥32॥
    चौपाई :
    * बार बार प्रभु चहइ उठावा। प्रेम मगन तेहि उठब न भावा॥
    प्रभु कर पंकज कपि कें सीसा। सुमिरि सो दसा मगन गौरीसा॥1॥
    भावार्थ:-प्रभु उनको बार-बार उठाना चाहते हैं, परंतु प्रेम में डूबे हुए हनुमान्*जी को चरणों से उठना सुहाता नहीं। प्रभु का करकमल हनुमान्*जी के सिर पर है। उस स्थिति का स्मरण करके शिवजी प्रेममग्न हो गए॥1॥




Similar Threads

  1. The beautiful temples of Bali
    By passion_unlimitedd in forum General Discussion
    Replies: 7
    Last Post: 26-01-2012, 08:52 PM
  2. ~~~~ Aishwarya Rai's CHOKHER BALI ~~~~~
    By animesh303 in forum Bollywood Celebrities
    Replies: 30
    Last Post: 30-03-2011, 07:19 PM
  3. The Legian Bali......
    By devs_urs in forum General Discussion
    Replies: 25
    Last Post: 08-12-2010, 03:16 AM
  4. Green School in Bali
    By DesiCasanova in forum General Discussion
    Replies: 45
    Last Post: 07-12-2010, 08:47 AM
  5. Rythem of Bali
    By ~:Satan:~ in forum Movies
    Replies: 0
    Last Post: 21-02-2007, 03:59 PM

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •