Results 1 to 4 of 4

Thread: धर्मोँ मेँ जाति संप्रदाय

  1. #1
    Young Gun dipu976's Avatar
    Join Date
    Aug 2008
    Posts
    419
    Rep Power
    48

    Default धर्मोँ मेँ जाति संप्रदाय

    ऐसा माना जाता है कि जाति व्यवस्था केबल हिन्दुओँ मेँ पायी जाती है ।हिन्दुओँ मेँ जाति गोत्र बनाया ताकि लोग ब्लड रीलेशन मेँ शादी करने से बच जायेँ ।दुसरा कारण था लोगोँ को आइडेँटी देने का ताकि परिचय के तौर पर अपना नाम बोलेँ तो कार्य और क्षेत्र भी मालुम चल जाये ।हिन्दुओँ कि चार जातियाँ स्वाभाविक जातियाँ है जिस पर पुरी दुनिया स्कॉलर(ब्राह्मण,मंत्री),सेक्युरिटी(क्षत्रिय ,आर्मी ,पुलिश,),बिजनेशमैन(बनिक) और स्टाफ(शुद्र) के तौर पर विभाजित है ।भेदभाब,छुआछुत .जाति ,संप्रदाय हर प्रमुख धर्मोँ मेँ मिलता है लेकिन अन्य धर्मोँ मेँ कोइ वैग्यानिकता या लॉजिक नहिँ दिखता।हिन्दुओँ मेँ छुआछुत का नियम महामारियोँ से बचने का उपाय मात्र था।क्योँकि चमडे मुर्दे गंदगी गंदे जानवर पालने बालोँ से महामारी का खतरा अधिक होता था ।अन्य धर्मोँ मेँ लोग आस्थाओँ के आधार पर विभाजित हैँ जो एक दुसरे कि प्रचलित आस्थाओँ को नकारने मेँ लगे होते हैँ।जबकि हिन्दु धर्म अनेक जातियोँ मेँ विभाजित होने पर भी सभी आस्थाओँ को समान तौर पर मानती हैँ और पुजती है।

    #क्रिश्चन मेँ बहुत सारे छोटे बडे चर्च होते हैँ जो मुख्यतः 7 संप्रदायोँ मेँ विभक्त हैँ और ये 7 संप्रदायोँ फिर से कई उपसंप्रदायोँ मेँ विभक्त होते हैँ ।
    I.Catholic
    II.Orthodox
    III.Lutheran IV.Reformed/Presbyterian
    V.Anglican/Episcopalian
    VI.Methodist/Wesleyan
    VII.Baptist
    यहाँ छोटे चर्च मेँ जाने बालौँ को बडे चर्च मेँ जाने कि मनाहि होती है और सबकी पुजा पद्धति मान्यताओँ मेँ अंतर पाया जाता है । मान्यताओँ का तुलनात्मक अध्ययन

    छोटे बडे चर्च सैँकडोँ कि संख्या मेँ हैँ ।


    #मुस्लिमोँ मेँ जाति व्यबस्था जो प्रमुखतः अशरफ ,अजलफ ,अरजल जातिओँ मेँ बंटा है जिसकी अनेक उपजातियां हैँ।शिया ,सुन्नी,अहमदिया जैसे 73 संप्रदाय भी हैँ ।ये जाति या संप्रदाय केबल अपनी जातियोँ या संप्रदायोँ मेँ हि रिशता करते हैँ और धार्मिक मान्यताओँ मेँ भी अंतर पाया जाता है और ये लोग एक दुसरे को काफिर ठहराते फिरतेँ हैँ ।

    # सिखोँ मेँ जाति व्यबस्था
    हिन्दुओँ कि तरह 4 वर्णोँ मेँ बंटा हुआ है ।यहाँ भी केबल अपने जातियोँ मेँ हि अधिकांश रिशता किया जाता है ।


    #बौद्धोँ कि जाति व्यबस्था जो प्रमुखतः 3 प्रमुख संप्रदायोँ महायान ,हीनयान और वज्रयान मेँ बंटा हुआ है जिसका सैँकडोँ स्कुल या उपसंप्रदाय है जो अलग अलग पुजा पद्धतिओँ और मान्याताओँ को मानता है ।

    Comparison Chart of Beliefs of Christian Denominations - ReligionFacts

    The following chart compares the similarities and differences between the beliefs, doctrine and theology of major Christian denominations. Please note that the brief summaries and excerpts provided here do not reflect all individuals or churches in each denomination, but they are believed to represe...



    Last edited by amitsush; 27-12-2012 at 05:04 PM.

  2. #2
    SB Addict Amarmahra's Avatar
    Join Date
    Jan 2012
    Location
    Right here.
    Posts
    762
    Rep Power
    22

    Default

    Quote Originally Posted by dipu976 View Post
    ऐसा माना जाता है कि जाति व्यवस्था केबल हिन्दुओँ मेँ पायी जाती है ।हिन्दुओँ मेँ जाति गोत्र बनाया ताकि लोग ब्लड रीलेशन मेँ शादी करने से बच जायेँ ।दुसरा कारण था लोगोँ को आइडेँटी देने का ताकि परिचय के तौर पर अपना नाम बोलेँ तो कार्य और क्षेत्र भी मालुम चल जाये ।हिन्दुओँ कि चार जातियाँ स्वाभाविक जातियाँ है जिस पर पुरी दुनिया स्कॉलर(ब्राह्मण,मंत्री),सेक्युरिटी(क्षत्रिय ,आर्मी ,पुलिश,),बिजनेशमैन(बनिक) और स्टाफ(शुद्र) के तौर पर विभाजित है ।भेदभाब,छुआछुत .जाति ,संप्रदाय हर प्रमुख धर्मोँ मेँ मिलता है लेकिन अन्य धर्मोँ मेँ कोइ वैग्यानिकता या लॉजिक नहिँ दिखता।हिन्दुओँ मेँ छुआछुत का नियम महामारियोँ से बचने का उपाय मात्र था।क्योँकि चमडे मुर्दे गंदगी गंदे जानवर पालने बालोँ से महामारी का खतरा अधिक होता था ।अन्य धर्मोँ मेँ लोग आस्थाओँ के आधार पर विभाजित हैँ जो एक दुसरे कि प्रचलित आस्थाओँ को नकारने मेँ लगे होते हैँ।जबकि हिन्दु धर्म अनेक जातियोँ मेँ विभाजित होने पर भी सभी आस्थाओँ को समान तौर पर मानती हैँ और पुजती है।

    #क्रिश्चन मेँ बहुत सारे छोटे बडे चर्च होते हैँ जो मुख्यतः 7 संप्रदायोँ मेँ विभक्त हैँ और ये 7 संप्रदायोँ फिर से कई उपसंप्रदायोँ मेँ विभक्त होते हैँ ।
    I.Catholic
    II.Orthodox
    III.Lutheran IV.Reformed/Presbyterian
    V.Anglican/Episcopalian
    VI.Methodist/Wesleyan
    VII.Baptist
    यहाँ छोटे चर्च मेँ जाने बालौँ को बडे चर्च मेँ जाने कि मनाहि होती है और सबकी पुजा पद्धति मान्यताओँ मेँ अंतर पाया जाता है । मान्यताओँ का तुलनात्मक अध्ययन

    छोटे बडे चर्च सैँकडोँ कि संख्या मेँ हैँ ।


    #मुस्लिमोँ मेँ जाति व्यबस्था जो प्रमुखतः अशरफ ,अजलफ ,अरजल जातिओँ मेँ बंटा है जिसकी अनेक उपजातियां हैँ।शिया ,सुन्नी,अहमदिया जैसे 73 संप्रदाय भी हैँ ।ये जाति या संप्रदाय केबल अपनी जातियोँ या संप्रदायोँ मेँ हि रिशता करते हैँ और धार्मिक मान्यताओँ मेँ भी अंतर पाया जाता है और ये लोग एक दुसरे को काफिर ठहराते फिरतेँ हैँ ।

    # सिखोँ मेँ जाति व्यबस्था
    हिन्दुओँ कि तरह 4 वर्णोँ मेँ बंटा हुआ है ।यहाँ भी केबल अपने जातियोँ मेँ हि अधिकांश रिशता किया जाता है ।


    #बौद्धोँ कि जाति व्यबस्था जो प्रमुखतः 3 प्रमुख संप्रदायोँ महायान ,हीनयान और वज्रयान मेँ बंटा हुआ है जिसका सैँकडोँ स्कुल या उपसंप्रदाय है जो अलग अलग पुजा पद्धतिओँ और मान्याताओँ को मानता है ।

    Comparison Chart of Beliefs of Christian Denominations - ReligionFacts

    The following chart compares the similarities and differences between the beliefs, doctrine and theology of major Christian denominations. Please note that the brief summaries and excerpts provided here do not reflect all individuals or churches in each denomination, but they are believed to represe...



    Oh...oh !!!
    That means castism is universal (problem...?).
    Please also state how many countries beside India are having cast based reservation policy in their system ?

  3. #3
    ~~ pL@t0nIc ~~ Major Facele$$'s Avatar
    Join Date
    Oct 2008
    Location
    Whr Others merely DREAM...
    Posts
    4,266
    Rep Power
    50

    Default

    actually in hindus,in olden days,i mean very old times,caste system was not based on birth,but on the choice of duties you choose to perform,

    For ex,

    Currently im born in Shatriya family,but if i choose my profession as a scienstists or engineer or teacher thn my caste is brahmin cz i went for eduction n knowledge.

    if i had chosen police or defence thn i'l be consider as shahriya.

    if a peon or sweeper thn shudras.

    Caste ws a system like a human body needs brain,chest,thighs & feet as a whole,so the society needs people to perform all duties.


    but with time,some people made the caste system for their benefit.
    MUH ke hum muhjor hai
    se kamjor hai.




  4. #4
    Banned Lieutenant-Colonel
    Join Date
    Jun 2008
    Posts
    7,085
    Rep Power
    0

    Default

    वर्ण एवं जातियाँ, इससे भी आगे उपजातियां केवल हिन्दू धर्म में ही मिलेंगी।
    इसी के कारण इस धर्म का सर्वनाश हुआ, हो रहा है और भविष्य में भी होगा।

Similar Threads

  1. Replies: 15
    Last Post: 01-11-2011, 11:58 PM
  2. Replies: 16
    Last Post: 13-12-2010, 03:04 PM
  3. Replies: 2
    Last Post: 14-10-2010, 01:02 PM
  4. Replies: 12
    Last Post: 16-08-2010, 11:57 AM
  5. Replies: 2
    Last Post: 21-09-2007, 05:53 PM

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •